कोई दरवाजे पर आकर कह रहा है

कोई दरवाजे पर आकर कह रहा है कि,

वो घर, अपना पालना चाहता है,
कहता है, जी तोड़ मेहनत करूंगा,
साहब, मुझे कोई, कुछ तो काम दें।

वो घर, अपना बचाना चाहता है,
कहता है, घर की नींव डालना जानता हूं,
साहब, नींव डलवाने का ही काम दे दें।

वो घर, अपना सजाना चाहता है,
कहता है, घर बनाना, सजाना जानता हूं,
साहब, घर को सजाने का ही काम दे दें।

वो घर, अपने अर्थ सुख चाहता है,
कहता है, यहां नहीं तो बाहर चला जाऊंगा,
साहब, कहीं भी, किसी भी जगह भेज दें।

वो घर, अपने बच्चे शिक्षित चाहता है,
कहता है, भीख नहीं चाहिए, मेहनत बेचूंगा,
साहब, ईमान छोड़कर, कुछ भी करवा दें।

वो घर, परिवार का भविष्य चाहता है,
कहता है, दूर रहकर, मुझे कुछ भी हो जाए,
साहब, शिकायत नहीं, कमाई घर दे देना।

दरवाजे पर, इतनी बड़ी बातें कौन कर रहा है,
साहब वो कहता है, खाली पेट ‘ मैं मजदूर हूं’।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *