चतुर बेटी। Intresting story for kids 2020।

बहुत समय पहले की बात है ,एक गांव में एक बुढ़िया रहती थी, वह बहुत उदास रहती थी । वह हर समय अपनी बेटी की यादों में खोए हुए रहती थी ।
उसकी इकलौती बेटी का विवाह पिछले वर्ष ही पास के ही एक गांव में हो गया था । वह अपने बिटिया के घर जाना चाहती थी , किंतु उसके गांव के रास्ते में एक घनघोर जंगल पड़ता था ।
उस जंगल को पार करने के लिए लोग डरते थे, वहां खूंखार जंगली जानवर भटकते रहते थे । इस तरह बुढ़िया कई दिनों तक सोचती रही ।
एक दिन उसने निश्चय कर लिया कि अब कुछ भी हो जाए मैं अपनी बेटी के घर जरूर जाऊंगी और ऐसा सोचकर अगले ही दिन सुबह वह एक पोटली में कुछ खाना और कपड़े लिए हाथ में डंडा पकड़े घर से निकल गई ।

कुछ दूर चलने के बाद जंगल शुरू हुआ जंगल में घुसते ही उसका कलेजा कांपने लगा ।
फिर भी बेटी के याद में उसने अपनी हिम्मत बढ़ाई और धीरे-धीरे जंगल में सावधानी से आगे बढ़ने लगी । कुछ ही देर बाद उसके सामने गुर्राता हुआ एक चीता आया ।
उस चीते ने कहा – ऐ बुढ़िया तुम कहां जा रही हो ?? मैं बहुत भूखा हूं । मैं तुम्हें खा जाऊंगा । बुढ़िया को तो जैसे काटो तो खून नहीं ! उसके मुंह से आवाज नहीं निकल पा रही थी ,उसके हाथ पैर कांपने लगे ।
लेकिन तभी बुढ़िया ने अचानक कहा कि – बेटा मुझे खाने से तुम्हें क्या मिलेगा ? मेरे शरीर में तो माँस ही नहीं है , सिर्फ हड्डियां ही हड्डियां है ।
तुम मुझे बाद में खा लेना , मैं अपनी बेटी के घर जा रही हूं । मैं वहां से बढ़िया खा – पीकर मोटी – तगड़ी होकर जब वापस आऊंगी, तब तुम मुझे खा लेना ।
चीता ने कहा – तुम मुझे बेवकूफ तो नहीं बना रही हो ? बुढ़िया ने कहा – नहीं – नहीं बेटा , मैं तुम्हें बेवकूफ कैसे बना सकती हूं ! तुम चाहो तो अभी मुझे खा सकते हो , लेकिन तुम्हें कुछ नहीं मिलेगा । यही अच्छा होगा कि तुम मुझे बेटी के घर से आने के बाद खा लो ।
मैं एक नजर अपनी बेटी को देखना चाहती हूं । चीता ने कहा – ठीक है बुढ़िया , मैं तुम्हारा इंतजार करूंगा , अब जाओ और जल्दी आना ।
बुढ़िया डरते हुए आगे बढ़ी , थोड़े ही दूर जाने के बाद बड़े-बड़े बालों वाला एक काला भालू उसके पास आया और जोर से गुर्राया । भालू ने कहा – ऐ बुढ़िया! मैं तुम्हें मार कर खा जाऊंगा , मुझे बहुत भूख लगी है ।
बुढ़िया ने फिर भालू से कहा कि – बेटा मेरा शरीर तो एकदम सूखा हुआ है , मांस इसमें है ही नहीं । तुम्हें मुझे खा कर क्या मिलेगा ? मैं अपनी बेटी के घर जा रही हूं , वहां से खा -पीकर मोटी – तगड़ी होकर जब वापस आऊंगी, तब मुझे तुम खा लेना ।
भालू ने कहा – तुम ये क्या कह रही हो ! तुम बचकर जाना चाहती हो ? मैं तुम्हारे बहकावे में नहीं आऊंगा । मैं तुम्हें अभी मार कर खा जाऊंगा ।
बुढ़िया ने कहा नहीं – नहीं बेटा , मैं भला तुमसे क्यों झूठ बोलूंगी , तुम मेरा विश्वास करो , मैं वापस जरूर आऊंगी और तुम्हें खाने में भी मजा आएगा , मैं तुम्हें विश्वास दिलाती हूं कि मैं तुम्हारे पास वापस जरूर आऊंगी ।
भालू ने कुछ सोचते हुए कहा – ठीक है बुढ़िया तुम वापस जरूर आना , मैं तुम्हारा इंतजार करूंगा , जाओ अब तुम जल्दी जाओ । बुढ़िया मन ही मन सोच रही थी कि मैंने कैसे इन लोगों से छुटकारा पा लिया है ।
कुछ दूर आगे चलने पर बुढ़िया को एक खूंखार बाघ दिखाई दिया । बाघ ने दहाड़ते हुए कहा – ऐ बुढ़िया तुम कौन हो ? मैं तुम्हें खा जाऊंगा ! मुझे बहुत भूख लगी है ।
बुढ़िया ने फिर उसके सामने हाथ जोड़ते हुए कहा – बाघ बेटा अभी मुझे खाने से तुम्हें क्या मिलेगा मेरा शरीर तो सूख चुका है , इसमें अब सिर्फ हड्डियां ही हड्डियां है , मांस तो है ही नहीं ।
मैं अपनी बेटी के घर जा रही हूं , वहां पर मैं बढ़िया खा – पीकर , मोटी -तगड़ी होकर जब वापस आऊंगी , तब मुझे खा लेना । तभी तो तुम्हें खाने का आनंद मिलेगा । बाघ ने कहा – मुझे बहलाने की कोशिश मत करो ।
बुढ़िया ने कहा – मैं तुम्हें नहीं बहला रही बेटा , मेरे तो शरीर में ताकत ही नहीं है , मैं तुमसे भला दुश्मनी कैसे कर सकती हूँ । तुम मेरा विश्वास करो मैं एक न एक जल्दी ही तुम्हारे पास जरूर आऊंगी , तुम मेरा इंतजार करना ।
बाघ ने कहा – ठीक है , मैं तुम्हारा इंतजार करूंगा , भूलना मत तुम जरूर आना वरना तुम्हारा अंजाम बहुत बुरा होगा , मैं तुम्हें जहां भी छुपी होगी वहीं से ढूंढ लूंगा ।
बुढ़िया मन ही मन मुस्कुराते हुए आगे बढ़ी और अपनी बेटी के घर तक जा पहुंची , घर में पहुंचते ही उसने अपनी बेटी को गले से लगाया और खूब रोई । फिर बेटी ने उसका मान – सम्मान किया और उसके खाने के लिए अच्छे-अच्छे पकवान बनाएं ।
इस तरह महीनों तक बुढ़िया अपनी बेटी और दामाद के साथ हंसी-खुशी रहने लगी । बुढ़िया तंदुरुस्त हो गई । 1 दिन बुढ़िया ने कहा कि – बेटी मुझे यहां पर आए हुए अब बहुत दिन हो गए हैं , अब मुझे वापस घर जाना चाहिए ।
बेटी ने जिद की , कि आप और कुछ दिन रहे , आप इतनी जल्दी हमें छोड़कर नहीं जा सकती । बेटी की जिद करने पर मां ने कहा – ठीक है , मैं सिर्फ 1 दिन और रुकूँगी और फिर अपने घर चली जाऊंगी । बेटी ने कहा – ठीक है मां ।
अगले दिन सुबह बुढ़िया उठ कर नहा – धोकर जाने की तैयारी करने लगी । बेटी ने भी उसके लिए तरह-तरह के पकवान बनाकर खिलाएं , लेकिन वह चिंता में डूबी हुई थी , उसको चिंता में देख कर उसकी बेटी ने पूछा – क्या है मां तुम बहुत उदास हो ? मैं तो कहती हूं कि , तुम यहीं पर हमारे साथ ही सदा के लिए रुक जाओ आखिर वहां अकेली रह कर क्या करोगी ।
वहां तुम्हारा कोई सहारा भी नहीं है इससे अच्छा है तुम हमारे पास ही रह जाओ । बुढ़िया ने कहा – नहीं लाडो नहीं , बेटी के घर रहना उचित नहीं है , मुझे घर ही जाना है । मुझे एक बात की बहुत चिंता है , लेकिन मैं तुम्हें यह बताना नहीं चाहती थी ।
मैं उस मुसीबत से कैसे पार पाऊंगी यही मैं सोचती रहती हूं । बेटी ने कहा – मां आप मुझे बताइए आपको क्या परेशानी है । मैं आपकी परेशानी को जरूर दूर कर दूंगी । मां ने बेटी से कहा कि – जब मैं तुम्हारे घर आ रही थी तो , जंगल के रास्ते में मुझे चीता , बाघ और एक भालू मिला था ।
उन्होंने मुझे खाने की कोशिश की बड़ी मुश्किल से मैंने उन्हें मनाया कि मुझे अभी मत खाओ , अभी मेरे शरीर में मांस ही नहीं है , मैं अपनी बेटी के घर जा रही हूं और वहां से मोटी – तगड़ी होकर जब आऊंगी तब मुझे खा लेना । अब वो लोग मेरा इंतजार कर रहे होंगे , अब मैं उनसे अपना पीछा कैसे छुड़ाऊँगी इसी बात की मुझे चिंता है ।
थोड़ी देर सोचने के बाद बेटी ने कहा कि – तुम चिंता मत करो मां , मेरे पास एक उपाय है अगर तुम मेरे कहे अनुसार काम करोगी तो यह मुसीबत टल जाएगी ।
उसकी बेटी ने एक बड़ा सा गोल मटका खरीद लाया और नीचे की तरफ दो छोटे छेद कर दिए और ऊपर की तरफ भी दो छोटे छेद कर दिए और उसने अपनी मां को कहा कि- मां आप इस मटके में बैठ जाइए नीचे के हिस्से आप अपने दोनों पैर निकालकर धीरे धीरे चलना और सामने के छेद से आप रास्ता देख सकते हैं ।
जैसे ही वह आपके सामने आए आप रुक जाना और उनके चले जाने के बाद धीरे-धीरे आगे बढ़ना ऐसा कहकर बेटी ने अपनी मां को मटके के अंदर बिठाया और ढक्कन बांध दिया और घड़े को धकेलते हुए कहा – ”चल रे घड़ा घाटे – घाट “, ” चल रे घड़ा खाटे – घाट ” घड़ा धीरे-धीरे आगे बढ़ते हुए जंगल में आया थोड़ी देर में उसके सामने गुजरते हुए बाघ ने कहा – ए मटके तुमने एक बुढ़िया को देखा है क्या ? उसने कहा था मैं आऊंगी लेकिन आज तक नहीं आई ।
घड़े ने कहा – ” बुढ़िया देखे न गुड़िया ,” चल रे घड़ा घाटे – घाट , चल रे घड़ा घाटे – घाट ” और और घड़ा लुढ़कने लगी । थोड़ी ही दूर चलने पर उसका सामना भालू के साथ हुआ , भालू ने अपने लंबे बाल लहराते हुए और गुर्राते हुए कहा – ए मटकी तुमने एक बुढ़िया को देखा है क्या ?
मटकी से आवाज आई – ” बुढ़िया देखे ना गुड़िया , चल रे घड़ा घाटे – घाट ” और धीरे-धीरे वह आगे बढ़ गई ।
अंत में उसका सामना चीता के साथ हुआ चीता जोर से छलांग लगाकर उसके सामने आ गया और पूछा ऐ घड़े तुमने एक बुढ़िया को देखा है क्या ? जो लाठी टेककर चलती है , उसने कहा था कि मैं जल्दी ही आऊंगी लेकिन इतने दिन हो गए वह आज तक नहीं आई ।
मटके ने कहा – ” बुढ़िया देखे ना गुड़िया , चल रे घड़ा घाटे – घाट , चल रे घड़ा घाटे- घाट ” । ऐसा करते हुए बुढ़िया जंगल से पार हो गई । जंगल के बाहर आते ही मटका फोड़ कर बुढ़िया बाहर आ गई और खुशी से झूमने लगी और फिर वह अपने घर पहुंच गई ।
शिक्षा :- कितनी भी विपरीत परिस्थितियां हो हमें अपना धैर्य नहीं खोना चाहिए तथा सदैव समस्याओं को हल करने के बारे में सोचना चाहिए ।

पारंपरिक छत्तीसगढ़ी लोककथा
पुरुषोत्तम साहू