best quotes in hindi hindi me suvichar

नमस्कार साथियों अनमोल वचनों का हमारे जीवन में बहुत ही महत्व है यह हमारे जीवन के गूढ़ रहस्यों को सुलझाने के अलावा , जीवन में नई राह भी दिखाता है । यहाँ पर हम आपको कुछ ऐसी ही बातों को बता रहे हैं ।

 

” आपको अपने किसी भी दुश्मन से ज्यादा नहीं लड़ना चाहिए अन्यथा आप उसे अपना पूरा युद्ध कौशल सिखा देंगे । “
नेपोलियन बोनापार्ट

” कुछ लोग जहां जाते हैं , खुशियां लाते हैं , और कुछ लोग जब जाते हैं , तब । “
आस्कर वाइल्ड
” महान उपलब्धियाँ लगातार की जाने वाली छोटी – छोटी उपलब्धियों का कुल योग होती है । “
रिचर्ड ब्रेनसन
” कई बार मुश्किल अनुभव होने पर भी कोशिश जारी रखिए , कोशिश करते हुए आप या तो जीतते हैं , या सीखते हैं “
रिचर्ड ब्रेनसन
” आपके शब्द आप की जमानत है , जो कह दिया उसे पूरा करो ।”
 मिशेल ओबामा
” लोगों से सम्मान के साथ व्यवहार करो चाहे वह अपरिचित हो या असहमत । “
मिशेल ओबामा
” असफलता बुरी चीज नहीं है , यह बड़ी ही प्यारी चीज है।”
रिचर्ड ब्रेनसन
”  उन लोगों को चुनें जो आप की उन्नति में सहायक  हो , सदा उनको खोजें जो आपको बेहतर महसूस कराएँ । “
मिशेल ओबामा
” अगर आप जीवन और समय पर नियंत्रण नहीं रखेंगे तो दूसरे उसे हड़प लेंगे । “
मिशेल ओबामा
” अगर अपनी वरीयता की सूची में , आप खुद पहली प्राथमिकता नहीं होंगे , तो धीरे-धीरे आप लिस्ट में नीचे और नीचे उतरते जाएंगे । “
मिशेल ओबामा
” जब आप ने कड़ी मेहनत करके अवसरों के द्वार से गुजर कर शानदार सफलता हासिल कर ली हो , तो उस द्वार को बंद मत करें । यही राह दूसरों के लिए खुली रखें , ताकि वे भी कामयाबी के अवसर पा सके । “
मिशेल ओबामा
” अंत में यह मायने नहीं रखता कि आपके पास जीवन में कितने साल बचे हैं , उन बचे हुए सालों में कितना जीवन बचा है  , यह मायने रखता है । “
अब्राहम लिंकन

” इंसान को हमेशा उसके दिए गए जवाब से नहीं , बल्कि उसके किए गए सवालों से पहचाना जाना चाहिए । “
अब्राहम लिंकन
” उस व्यक्ति ने अमरत्व प्राप्त कर लिया है , जो किसी सांसारिक वस्तु से व्याकुल नहीं होता । “
अज्ञात
” स्वयं की प्रशंसा ना करें , यह कार्य आपके सतकर्म स्वयं करा लेंगे । “
विलियम शेक्सपियर
” सफलता तभी मायने रखती हैं और आनंद देती है , जब आपको पूरा एहसास हो कि वह आपकी है । “
मिशेल ओबामा
” डर के मारे कोई फैसला ना करें , निर्णय आशा और संभावनाओं के आधार पर ही ले । फैसले इस नजर से लें कि ,  क्या हो सकता है , ना कि क्या नहीं होना चाहिए । “
मिशेल ओबामा
” असफलता विकास की महत्वपूर्ण सीढ़ी है , असफल होने से कभी ना डरें । “
मिशेल ओबामा
” डरपोक अपनी मृत्यु से पहले कई बार मरते हैं , बहादुर मौत का स्वाद और कभी नहीं बस एक बार चखते हैं । “
विलियम शेक्सपियर
” आलस्य से आराम मिल सकता है , पर यह आराम बड़ा महंगा पड़ता है । “
अज्ञात
 ” स्वतंत्र वही हो सकता है , जो अपने काम आप कर लेता है ।
अज्ञात
 ” सोचना आसान होता है , और करना मुश्किल , लेकिन जो सोचा उसे करना , यह दुनिया का सबसे मुश्किल काम होता है । “
अमिताभ बच्चन
” असफलता विकास की महत्वपूर्ण सीढ़ी है , असफल होने से कभी ना डरें । “
मिशेल ओबामा
 ” हर दिन आप बेहतर इतिहास का चुनाव कर सकते हैं , अपने दिलो – दिमाग को खोलकर , वह कह कर जो सही है । “
मिशेल ओबामा

” अपने प्रति हमेशा ईमानदार रहे , और किसी के कहे में आकर खुद को अपने लक्ष्य से कभी ना भटकने दें । “
मिशेल ओबामा
” लोग पीठ पीछे बहुत कुछ कहते हैं , उन पर अपनी ऊर्जा व्यर्थ ना करें । आप जानते हैं , आप क्या है । “
मिशेल ओबामा
” जिस प्रकार थोड़ी सी हवाओं से आग भड़क उठती है , उसी प्रकार थोड़ी सी मेहनत से , किस्मत चमक उठती है । “
अज्ञात

” एक साथ आना एक शुरूआत है , एक साथ रहना प्रगति है , और एक साथ काम करना सफलता है । “
हेनरी फोर्ड
” तैयारी करने में फेल होने का अर्थ है , फेल होने के लिए तैयारी करना । “
बेंजामिन फ्रेंकलिन
” मूर्खता को कभी हिलाया नहीं जा सकता , यह ग्रेनाइट की तरह सख्त और प्रतिरोधक है । “
गुस्तव फ्लोबैर
” जीवन के सबसे सर्वश्रेष्ठ दिन सफलता के नहीं होती , बल्कि वह होती है जब दुख से तंग आकर आप जीवन की चुनौतियां स्वीकार करते हैं , और भविष्य में कुछ हासिल करने का खुद से वादा करते हैं । “
गुस्तव फ्लोबैर

एकता का बल हिंदी कहानी

                                                                                                                           नमस्कार साथियों आज मैं आपको हिंदी की एक रोचक कहानी ” एकता का बल ”  के बारे में बताने जा रहा हूं , जिसे पढ़कर आपको बहुत ही आनंद आएगा ।

                 एक जंगल में एक चूहा और एक कबूतर रहता था , दोनों बहुत अच्छे मित्र थे । कबूतर और चूहे की दोस्ती को देखकर किसी को भी समझ नहीं आता था कि , एक  जमीन के अंदर रहता है और दूसरा पेड़ के ऊपर । फिर भी इन दोनों में इतनी गहरी दोस्ती कैसे है  । यह देख कर एक दिन एक कौवा उनके पास जाता है , और कहता है कि , आप लोग मुझे भी अपना दोस्त बना लो ।मैं आप लोगों को बहुत पसंद करता हूं , और मैं आपके सहयोग के लिए हमेशा तैयार रहूंगा ।
                         यह बात सुनकर चूहे ने कहा कि कौवा और चूहे की  दुश्मनी तो आदि – अनादि काल से चली आ रही है । भला चूहे की दोस्ती कौंवे से कैसे हो सकती है । कौवा, चूहे का जानी दुश्मन होता है , हम तुम पर कैसे विश्वास कर ले । यह बात सुनकर कौवा गिड़गिड़ाने लगा कि अगर तुम लोगों ने मुझे अपना दोस्त नहीं बनाया तो मैं , बिना कुछ खाए पीए ही अपने प्राण त्याग दूंगा । कौवे के बहुत मनाने और बार बार विश्वास दिलाने पर कबूतर ने कहा कि चलो एक बार हम इसका विश्वास कर लेते हैं , और इसे अपना दोस्त बना लेते हैं । इस तरह कौवा , कबूतर और चूहा तीनों दोस्त बन गए ।
                    दिन यूं ही बीतते गए और उन्होंने देखा कि कौवा एक बहुत अच्छा दोस्त है , और हमेशा उनकी मदद के लिए तैयार रहता है , कौवा सच्चा था , वह अपने दोस्तों को बेइंतहा प्यार करता था , तीनों दोस्त एक साथ मजे से रहते थे तथा सुख दुख में एक – दूसरे का साथ देते थे । कुछ समय पश्चात उस जगह पर भयानक अकाल पड़ा नदी – नाले सूखने लगे , पेड़-पौधे , घास सभी सूखने लगे ,और जंगल में खाने की बहुत किल्लत हो गई ।
                                                                         कौवे ने कहा कि दोस्तों अब यहां पर रहना उचित नहीं है , यहां पर रहेंगे तो भूख से मर जाएंगे । यहां से बहुत दूर दूसरा जंगल है , जहां पर मेरा एक दोस्त है और वहां का जंगल हरा-भरा है , वहां पर खाने की खूब सारी चीजें हैं , हम लोगों को वहां पर जाना चाहिए । वहां पर हमारी मदद के लिए मेरा दोस्त हमेशा तैयार रहता है,  पहले तो कबूतर और चूहे को यह उपाय अच्छा नहीं लगा लेकिन बाद में सोच कर उन्होंने कौवे की बात मान ली और तीनों जंगल के लिए रवाना हो गए । कौवा चूहे को अपने चोंच में दबा कर उड़ने लगा और साथ में कबूतर भी उड़ने लगा । वे लोग बड़ी सावधानी से आगे बढ़ने लगे , दूसरे जंगल में पहुंचने के बाद उन्होंने देखा कि यह जंगल तो वाकई बहुत हरा-भरा है , और यहां खाने का भंडार है । कौवा एक तालाब के किनारे उतर गया और चूहे को भी नीचे उतार दिया । कबूतर भी कौवा के पास आकर उतर गया , फिर कौवे ने अपने दोस्त को जोर – जोर से आवाज लगाई ।
                           तालाब से निकल कर उनके पास एक बड़ा सा कछुवा आया और उसने कौवे से कहा –  मेरे दोस्त तुम कितने दिन बाद आए हो , कहो तुम कैसे हो ? सब कुशल मंगल तो है ना ? तो कौवे ने सारी बात अपने दोस्त को बता दी । चारों दोस्त उस नदी के किनारे हंसी –  खुशी रहने लगे । कुछ दिन बाद जब यह चारों तालाब के किनारे बैठ कर बातें कर रहे थे , तभी एक हिरण भागते – भागते उनके पास आया , हिरण  हाँफ रहा था , उसकी साँसे फुली हुई  थी । कौंवे ने कहा ओ भाई हिरन कहां  चले जा रहे हो तुम इतना डर क्यों रहे हो ? तब हिरन ने कहा क्या तुम कुछ जानते हो बहुत बड़ी कठिनाई आने वाली है । यहां पर कुछ दूर नदी के किनारे एक राजा ने अपना डेरा लगाया है , इस राजा के सैनिक बहुत ही क्रूर और अत्याचारी है । कल वे इधर हि शिकार के लिए आयेंगे । उनके सामने जो भी आता है , उन्हें वो नष्ट कर देते हैं । अगर अपनी जान बचाना चाहते हो तो तुरंत यहां से भाग जाओ ! क्योंकि वे लोग कल सुबह ही शिकार के लिए निकल जायेंगे , हमारे पास समय बहुत कम है। यह बात सुनकर सभी परेशान हो गए और चारों  दोस्तों ने हिरण के साथ कही दूर चले जाने का निश्चय किया ।
               अब पांचों जानवर दौड़ते-दौड़ते दूसरी जगह पर जाने लगे चूंकि कछुवा बहुत बड़ा था और वह जमीन पर रेंगता है , इसलिए सभी धीरे-धीरे आगे बढ़ने लगे । कुछ दूर जाने के बाद एक शिकारी की नजर उस कछुवे पर पड़ गई , शिकारी दौड़ते हुए उसके पास आया । हिरन भाग गई कौवा और कबूतर पेड़ पर चढ़ गयें , चूहा बिल में घुस गया । लेकिन कछुवा कुछ ना कर पाया और उसे शिकारी ने पकड़ लिया और अपनी जाल में भरकर चलने लगा । यह देख कर सभी दोस्त बहुत परेशान हो गए और सोचने लगे कि कैसे इस संकट से छुटकारा पाया जाए और अपने दोस्त की जान बचा जाये ।उन्होंने एक तरकीब निकाली ।
                     जैसे ही नदी के किनारे शिकारी ने जाल को नीचे रखा और खुद हाथ मुंह धोने के लिए नदी के नीचे उतरा वहीं पर कुछ दूर हिरन जमीन पर लेट गई और मरने का नाटक करने लगी । इतने में कौवा आया और हिरण पर चोंच मारने लगा । यह देख कर शिकारी ने सोचा कि यह हिरन अभी-अभी मरी होगी , उसका माँस अभी ताजा होगा । उसने उसे उठाने के नियत से उसके पास गया तभी बिल से चूहा बाहर आया और उसने कछुवे के जाल को काट दिया । कछुवा जल्दी से निकलकर तुरंत ही नदी में कूद गया और उसकी गहराइयों में गायब हो गया । चूहा बिल में घुस गया हिरन के नजदीक आते ही कौवा उड़ गया और हिरण भी तेज दौड़ लगाते हुए जंगलों में छिप गई । इस तरह सभी साथियों ने हिम्मत और बहादुरी के साथ काम करके , एकता से रहकर उन्होंने सबकी जान बचा ली। सभी साथी फिर से एक बार अपने गंतव्य के लिए निकल पड़े।
           इस कहानी से हमें शिक्षा मिलती है कि , अगर एकता के साथ काम किया जाए तो बड़ी से बड़ी कठिनाई भी आसानी से हल हो जाती है ।
 
साथियों आपको यह पोस्ट कैसी लगी हमें कमेंट करके जरूर बताये ।
धन्यवाद

इंडियन बटर ट्री अर्थातच्यूरा वृक्ष

 

घी गुड़ और शहद देने वाला वृक्ष च्यूरा अर्थात् इंडियन बटर ट्री

                                                                      आओ हम आपका परिचय घी गुड़ और शहद देने वाले एक विचित्र वृक्ष से करवाएं उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में एक ऐसा ही वृक्ष पाया जाता है , जो कि घी , गुड़ तथा शहद देता है । इसके अलावा यह वृक्ष फल , औषधि , जानवरों के लिए चारा , इंधन और चूहों को मारने के लिए कीटनाशक भी उपलब्ध कराता है । इस पेड़ों के बीजों से इतना तैलीय पदार्थ निकलता है कि , एक अंग्रेज अफसर ने इसका नाम घी वाला वृक्ष अर्थात इंडियन बटर ट्री रख दिया ।
                                                                            स्थानीय लोग इसे च्यूरा कहते हैं , यह बहुमूल्य वृक्ष कुमाऊँ और पिथौरागढ़ जनपद तथा भारत नेपाल की सीमा पर काली नदी के किनारे 3000 फीट की ऊंचाई तक पाया जाता है । वहां उसे ज्यादा तादाद में उगाने का प्रयास किया जा रहा है । यह वृक्ष यहां की जलवायु में ही पनपता है , अतः वहां के लोगों के लिए यह कल्पवृक्ष के समान है । उन लोगों के लिए घी का यही एकमात्र साधन है , जिसके पास फल देने वाले 3 – 4 वृक्ष होते हैं । उसे साल भर बाजार से वनस्पति घी खरीदने की जरूरत नहीं पड़ती । यह एक छायादार वृक्ष होता है , फूल आने का समय अक्टूबर से जनवरी होता है , तथा जुलाई-अगस्त में इसके फल पक जाते हैं । पके हुए फल पीले रंग के होते हैं , खाने में काफी स्वादिष्ट और सुगंधित होते हैं । वातावरण में फैली इस फल की मीठी महक से ही मालूम पड़ जाता है कि फल पकने लगा है । गांव के लोग इन फलों को बड़े चाव से खाते हैं , और एक भी बीज फेंकते नहीं है ।
                                                                               इस वृक्ष पर फल काफी आते हैं , पके फलों से बीज को आसानी से इकट्ठा करने के लिए वे कभी-कभी बंदरों एवं लंगूरों को फल खाने देते हैं । बंदर फलों के बाहरी भाग को खाकर बीजों को फेंक देते हैं , जिन्हें जमीन से बीन कर इकट्ठा कर लिया जाता है । एक वृक्ष से करीब 1 से डेढ़ क्विंटल प्रतिवर्ष बीज मिल जाते हैं । बीज से छिलके निकाल कर अंदर के भाग को धूप में या हल्की आंच पर सुखाकर पीस लिया जाता है , और पानी में उबाल लिया जाता है , कुछ देर उबालने के बाद इसे ठंडा होने के लिए रख दिया जाता है । ठंडा होने पर पानी के ऊपर घी- मक्खन की तरह एक सफेद पदार्थ तैरने लगता है , इसे कपड़े से छानकर अलग कर लिया जाता है । च्यूरा वृक्ष का घी देखने में वनस्पति घी की तरह सफेद दिखता है , तथा साधारण ताप पर ठोस होता है ।
                                                                                  स्थानीय लोग इससे पूरी , हलवा और अन्य पकवान बनाते हैं , जो अत्यंत स्वादिष्ट और हानिरहित होते हैं । यह घी गाय भैंस के घी से काफी मिलता-जुलता है , मिट्टी के तेल के अभाव में यह  जलाने के काम में भी आता है । यह बिल्कुल मोमबत्ती की तरह धुँआ रहित जलता है । यही नहीं जाड़ो में जब हाथ – पैर ठंड से फटने लगते हैं , या गठिया वात हो जाता है , तब यह घी लोगों के लिए अचूक दवा का काम करता है । च्यूरा घी को गर्म कर धूप में मालिश करके रोग का उपचार करते हैं । च्यूरा घी में एक महत्वपूर्ण रसायन होता है , जिसे पामेटिक अम्ल कहते हैं । यह रसायन विभिन्न  औषधियों और सौंदर्यवर्धक रसायन को बनाने में काम आता है ।
                                                                                    अक्टूबर – नंबर के महीनों में जब यह वृक्ष अच्छी तरह से पुष्पित हो जाता है,  तब इसके सफेद फूल मधुमक्खियों के आकर्षण का केंद्र होते हैं यही कारण है कि , पिथौरागढ़ और नेपाल के पास के इलाकों में जहां च्यूरा वृक्ष अधिक होते हैं , शुद्ध और सुस्वादु शहद हमेशा उपलब्ध होता है । यदि मधुमक्खी पालन गृहों को इन वृक्षों के पास रखा जाए तो शहद सुगमता से मिल सकता है , परंतु इसके लिए बाकायदा वैज्ञानिक तकनीक अपनानी पड़ेगी । स्थानीय लोग इन पर चढ़कर बड़ी सावधानी से डाली को हिला कर फूलों का रस बर्तन में इकट्ठा कर लेते हैं और इसे छान व उबालकर गुड़ प्राप्त कर लेते हैं । यह गुड़ देखने और खाने में बिल्कुल गन्ने के रस से बने गुड़ जैसा ही होता है । लोग इसे औषधि के रुप में भी प्रयोग में लाते हैं । च्यूरा के रस से बनाया अनोखा गुड़ नेपाल और पिथौरागढ़ के उन्ही इलाकों में मिल सकता है , जहां च्यूरा के वृक्ष होते हैं , क्योंकि इस का जितना उत्पादन होता है , वह सब स्थानीय स्तर पर ही खप जाता है ।
                                                                                      हमारे देश के प्रमुख रिसर्च संस्थाओं में अगर इस वृक्ष के बारे में अच्छे से काम किया जाय , और अन्य स्थानों में उगाने लायक किस्म तैयार की जाए , तो यह हमारे देश के किसानों के लिए वरदान साबित हो सकता है ।
साथियों आपको यह पोस्ट कैसी लगी हमें कमेंट करके जरूर बताये ।

                                                                    धन्यवाद

हिंदी कहानी सेठ जी की युक्ति

नमस्कार साथियों आज मैं आपको एक प्रेरणादायक प्रसंग के बारे में बता रहा हूँ कि कैसे एक सेठ ने एक अपराधी को सही रास्ते पर लाया । अपने बहुमूल्य विचार हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताये ।
                                                           एक छोटे से कस्बे में एक सेठ रहता था । उसका एक बड़ा सा दुकान था , दिनभर दुकान के सामने सामान लेने वालों की कतार लगी रहती थी । इसलिए सेठ ने दो नौकर काम के लिए रख लिए । दोनों नौकर सुबह-सुबह ही दुकान आ जाते थे और देर रात तक दुकान में काम करते थे । सेठ दोनों नौकरों को बराबर मजदूरी देता था और सेठानी घर जाने के समय नौकरों को उनके बच्चों के लिए खाने – पीने का सामान दे देती थी । इस तरह कई दिन बीत गए सेठ को अपने दुकान की चीजें कम होती नजर आ रही थी , लेकिन दुकान के गल्ले में पैसा इतनी तेजी से नहीं बढ़ रहा था ।
                                                           
                                                             अब वे परेशान होने लगे उन्होंने यह बात अपनी पत्नी को बताई तो उसकी पत्नी ने भी कहा कि मुझे भी कुछ दिनों से यही महसूस हो रहा है , कि घर का सामान जल्दी-जल्दी खत्म हो रहा है । सेठ और सेठानी ने मामले की तहकीकात करने का निश्चय किया । सेठ और सेठानी एक-एक करके नौकरों के घर गए और उन्होंने उनके घरों की छानबीन की उन्हें एक नौकर के घर से दुकान के कुछ सामान दिखाई दिए । सेठानी ने सेठ को कहा कि उस नौकर को दुकान से निकाल दे , तो फिर सेठ सोचने लगे कि उस नौकर के छोटे-छोटे बच्चे हैं , उनका पालन पोषण कैसे होगा ? फिर अगर वह दूसरी जगह काम पर जाता है तो वह वहां भी चोरी करेगा ! उसको निकालने से काम नहीं बनेगा उसको कैसे सुधारा जाए और कैसे सच्चाई की राह पर लाया जाए इसके बारे में सोचना पड़ेगा ।
                                                                  सेठ ने दोनों नौकरों की मजदूरी बढ़ा दी , उनके बच्चों के लिए कपड़ा जूता और पढ़ाई लिखाई का खर्च भी दिया । तब सेठानी फिर से झगड़ा करने लगी कि , अपना सारा पैसा नौकर-चाकर पर लुटा दोगे तो , हमारे बच्चे क्या करेंगे , उनका भविष्य का क्या होगा , वह तो मर जाएंगे । तो उसने कहा कि नहीं सेठानी वह दोनों मेरे दुकान पर बड़ी मेहनत कर रहे हैं , उनके घर में अगर तंगी होगी तो उनका काम में मन नहीं लगेगा और भी गलत रास्ते पर चले जाएंगे उनको सुधारना मुझे बहुत जरूरी है , उनके सुधरने से हमें भी फायदा होगा । सेठ को अपने कार्य पर पूरा विश्वास था ।

 

                                                www.hindimala.com
                                                                                    धीरे – धीरे दुकान में चोरी होना बंद हो गया और दोनों नौकर जी जान से , खुशी – खुशी काम करने लगे जिससे सेठ की आमदनी में भी बढ़ोत्तरी हुई । सेठ ने केवल अपने बारे में सोचा होता तो वह नौकर शायद कभी नहीं सुधरता , लेकिन सेठ जी की इस युक्ति से सभी का जीवन सुधर गया ।

Moral – हर अपराधी को दंड देकर ही नहीं सुधारा जाता बल्कि क्षमा और प्रेम से भी सुधारा जा सकता है ।