हाँ कहूँगा भगौड़ा तुम्हें

हां कहूंगा भगौड़ा
तुम्हें।
भागा था तूं/भागता रहा तूं


आधी रातकडड़कती बिजली और
मूसलाधार बारिश में भी
ममता को छोड़ जंजीर बंधी
जेल में
छबड़ी के खेल में।


हां फिर भागा था
भागा था दहलीज लांघते हुए
विष स्तनों
के पान को आतुर
प्राण ही पीने पूतना के।


भागा था दड़ाछट
कालीदह
गेंद के बहाने।
नाग भगाने
रोती बिसूरती आंखों को
धक्के मार।


भागना रहा निरंतर
तेरा व्यवहार
तेरा व्यापार ।


भाग गया तूं
रोते रंभाते गाय बछड़ों से
नजरें चुरा
ग्वाल बालों को बहला फुसला
बहुत ही क्रूर बन
अक्रूर के साथ।
तड़पता गोकुल को धकिया
सीधे मथुरा।


और बहलाने को दिया नही कोई
मंत्र
गोपबालाओं को
कुंज गलिन की युग्म लताएं
जो सुनती थी तान, बांस की
बांसुरी की
उस अधर रागिनी को छोड़
अधर


थी की नहीं पर
सुना हूँ कि वो जो थी राधा
उसकी आंखों के पानी का बहाव
भी नही रोक पाया था।


भाग कर ही
पोंछी होगी शायद तुमने भी
अपनी गीली आंख
तुमने मथुरा की किसी अंधी गली में।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *