माँ भारती के लाडले को नमन


हे प्रनतपाल हे कर्मवीर
है तुंग पुरुष हे महावीर
प्रतिहारी सीमाओं के प्रखर
बन खड़े हिन्द के दृढ़ प्राचीर

सौजन्य :-pixabay.com



गौरव इस मिट्टी का तुमसे
उत्तुंग इरादों के धानी
तुमसे भारत का विश्व गान
निज देश प्रेम के अभिमानी



हिमगिरि की चोटी विशाल
धरती या फिर हो पाताल
निज शौर्य पराक्रम के दम
न झुका कभी भारत का भाल



बन पवन दूत बरसाया अनल
आतंकी लंका में विनाश
अब लोहा माने सकल विश्व
कर दो नापको का सर्वनाश



जन-जन का मन हो अधीर
करती पुकार हे तरुण वीर
उठे आंख जो बुरी नियत
नरसिह रूप ले छाती चीर



गर गिरे शहीदी लहू बून्द
वह रक्तबीज हो जायेगा
हर युवा हिन्द के खातिर
हँसकर अर्पित हो जाएगा ।।

One thought on “माँ भारती के लाडले को नमन”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *