NEW HINDI KAVITA कब तक और सहोगे यारों…..

हमने भेजा वहां कबूतर , उनके गोलों का पैगाम ,
और हिलाओ हाथ साथ में , झेलो अपनी करनी का परिणाम ,
अपने फूलों के गुलदस्तों  का , आतंकी उपहार दिया ,
 हमने तो अपना हक मांगा था , पर उल्टा गला कटार दिया ,
 उठो चलो बस मुट्ठी बांधो , दुश्मन पर तुम वार करो ,
 कब तक और रहोगे यारों , अब तो ठोस  प्रहार करो ।।
 अरे अपने भी भाई हुसैन है, अपने घर भी मुल्ले हैं ,
मियाँ जी के घर पर दिवाली में , मिश्रा के रसगुल्ले हैं , 
और सेवईयाँ बँटी ईद पर , शर्मा और चौहानों में ,
अपना मजहब भले अलग पर,  प्रेम बसा गीता और कुरान में,
अरे पशुता कि अब राह छोड़ , इंसानी व्यवहार करो ,
कब तक और रहोगे यारों ,अब तो ठोस प्रहार करो ।।
 हिम्मत है तो आगे आओ,  क्यूं कवच बनाकर लड़ते तुम ,
कुछ पैसों के गुंडों से , कितने अबोध कुचलते तुम,
 कान खोलकर सुनो ध्यान से , है कश्मीर हमारा ताज ,
हम अखंड है सदियों से , और न खंडित होंगे आज ,
अपना घर ना संभलता तुमसे ,अरे शरीफों व्यर्थ न प्रयास करो,
कब तक और सहोगे यारों , अब तो ठोस प्रहार करो ।।
 
 अरे ढूंढो अब तुम घात लगाकर , अपने घर के गद्दारों को ,
उससे तो अच्छी वेश्याएँ भूख मिटाती ,
सौदे तन का ,नहीं देश दीवारों का , 
कब तक झूठे शान के खातिर इतना तुम इतराओगे ,
कितनी लाशों पर आंख बहा , मां बहन बेटियों की भावों संग ,
उजड़ी माँग दिखाओगे ,
अब धाराएं मोड़ सिंधु की , इनको ले लाहौर चलो ,
कब तक और सहोगे यारों , अब तो ठोस प्रहार करो ।।
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *